जानिये मेक इन इंडिया में वीमेन ऑन्तरप्रनर्स का क्या योगदान और कैसे | Jaaniye make in india mein woman entrepreneur ka kya yogdaan hai aur kaise , Know how women enterprenuer contribute in growth of india
जानिये मेक इन इंडिया में वीमेन ऑन्तरप्रनर्स का क्या योगदान और कैसे | Jaaniye make in india mein woman entrepreneur ka kya yogdaan hai aur kaise , Know how women enterprenuer contribute in growth of india

जानिये मेक इन इंडिया में वीमेन ऑन्तरप्रनर्स का क्या योगदान और कैसे | Jaaniye make in india mein woman entrepreneur ka kya yogdaan hai aur kaise | Know how women enterprenuer contribute in growth of india

SEMrush

जानिये मेक इन  इंडिया में वीमेन ऑन्तरप्रनर्स का क्या योगदान और कैसे | Jaaniye make in india mein woman entrepreneur ka kya yogdaan hai aur kaise | Know how women enterprenuer contribute in growth of india

 

मेक इन इंडिया का विचार (thought of make in india) इसलिए छाया हुआ है कि भारत के सुनहरे भविष्य (golden future of india) के लिए ऑन्तरप्रनरशिप की आवश्यका महसूस (feel) की जा रही है। भारत आज एक अर्ध-पिछड़ी कम्यूनिटी के रूप में सामने आया है, जहाँ एक तरफ़ महिलाओं के अधिकार की बात होती है, वहीं दूसरी ओर उन्हें पढ़ने और नौकरी या बिजनेस करने के पर्याप्त अवसर नहीं (proper chances) दिए जाते हैं। आज हम बात कर रहे हैं किन कारणों से हमें भारत में वीमेन ऑन्तरप्रनर्स की आवश्यकता है।

वीमेन ऑन्तरप्रनर्स का मेक इन इंडिया में योगदान

  1. समाज में उदाहरण प्रस्तुत करना – To present an example in culture

पुरानी परम्पराओं (old traditions) से हटकर भारतीय सोसाइटी को सचमुच स्ट्रांग और स्वतंत्र महिलाओं बिजनेस वीमेन रूप में सामने लाकर नये उदाहरण स्थापित (to set new examples) करने चाहिए। जो समाज के लिए प्रेरणा (motivate) बन सकें। आज आवश्यकता है कि हम महिलाओं को घर से बाहर की दुनिया में अपनी जगह बनाने दें। उन्हें उनके सपने पूरे की पूरा अवसर (give full chance to your dreams) दें।

  1. न्यूट्रिलिटी पर विश्वास स्थापित करना – Believe in nutrility

जब वीमेन ऑन्तरप्रनर्स की संख्या बढ़ जायेगी तो समाज में न्यूट्रिलिटी पर विश्वास लाने में आसानी (easy to trust the society) होगी। वीमेन ऑन्तरप्रनर के रूप में वह सभी महिलाओं के रोज़मर्रा की समस्याओं (daily problems of life) की समझकर सही हल प्रस्तुत कर सकने में सक्षम होगी।

SEMrush
  1. लिंगभेद की भावना ख़त्म करना – Finishing the gender basis

आज समाज की पुरानी रुढ़िवादी विचारधारा के अनुसार कुछ क्षेत्र ऐसे हैं जिनमें महिलाओं के लिए कोई अवसर नहीं है। यह कहकर वे उन्हें वहाँ काम करने का अवसर ही नहीं देते हैं। जब वीमेन ऑन्तरप्रनर्स अपनी पोज़िशन लेंगी (taking their position) तब वे इस विचारधारा को बदल कर रख देंगी। इससे महिलाओं को हर क्षेत्र में काम करने के समान अवसर (equal chances in every field) मिल सकेंगे।

  1. सफलता – Growth

दुनिया भर में हो रही रिसर्च (research) से यही सामने आया है कि महिलाओं द्वारा शुरु किए जा रहे स्टार्टअप ज़्यादा सफल हैं। यह माना जा रहा है कि महिलाएँ फ़ाइनेंस सम्बंधित रिस्क (finance related risk) को हैंडल करने और क्रिएटिव आइडिया (creative idea) देने में ज़्यादा समर्थ हैं।

  1. कस्टमर को समझना – Understating the customer

एक अन्य स्टडी में यह बात खुलकर सामने आयी है कि महिलाएँ घर में काम करने और खर्चों का ध्यान (controlling the expense) रखने में बढ़िया होती हैं। इससे समझना आसान हो जाता है पुरुषों की तुलना में महिलाएँ कस्टमर परसेप्शन (customer perception) को अधिक बेहतर ढंग से समझती हैं।

  1. सम्बंधों की समझ – Understanding the relations

जब सम्बंधों को समझने की बात हो तो एक औरत से बेहतर कोई नहीं (no one understand this better than a woman) समझ सकता है, क्योंकि वह इमोशनल और समझदार होती है। वे अपने कर्मचारियों और सहयोगियों (employees and partners) के बारे में सजग होती हैं। दूसरे की प्राब्लम समझने में वीमेन ऑन्तरप्रनर्स ज़्यादा सक्षम होती हैं।

  1. बेहतर पर कैपिटा इनकम – Better per capita income

अगर अर्थव्यवस्था की दृष्टि से देखा जाए तो महिलाओं के बिजनेस करने के कारण, हमारे देश में पर कैपिटा इनकम बढ़ (growth in per capita income) जायेगी। जब हमें देश में ज़्यादा से ज़्यादा ऑन्तरप्रनर्स की आवश्यकता हो तो जो वीमेन ऑन्तरप्रनर्स की बात को अनदेखा नहीं (cant ignore this)  करना चाहिए।

SEMrush
x

Check Also

जानिये के आखिर बुद्धि क्यों ज़रूरी है एटीट्यूड से ज़्यादा , Jaaniye aakhir buddhi kyon jaroori hai attitude se jyada

जानिये के आखिर बुद्धि क्यों ज़रूरी है एटीट्यूड से ज़्यादा | Jaaniye aakhir buddhi kyon jaroori hai attitude se jyada

जानिये के आखिर बुद्धि क्यों ज़रूरी है एटीट्यूड से ज़्यादा | Jaaniye aakhir buddhi kyon ...