जानिये 2017 में ब्लॉग या वेबसाइट की ट्रैफ़िक बढ़ाने के कुछ नये तरीके , Jaaniye 2017 mein blog ya website ki traffic badhane ke luch naye tarike , Few New Tips and tricks for increases traffic on your website or blog
जानिये 2017 में ब्लॉग या वेबसाइट की ट्रैफ़िक बढ़ाने के कुछ नये तरीके , Jaaniye 2017 mein blog ya website ki traffic badhane ke luch naye tarike , Few New Tips and tricks for increases traffic on your website or blog

जानिये 2017 में ब्लॉग या वेबसाइट की ट्रैफ़िक बढ़ाने के कुछ नये तरीके | Jaaniye 2017 mein blog ya website ki traffic badhane ke luch naye tarike | Few New Tips and tricks for increases traffic on your website or blog

SEMrush

 जानिये 2017 में ब्लॉग या वेबसाइट की ट्रैफ़िक बढ़ाने के कुछ नये तरीके | Jaaniye 2017 mein blog ya website ki traffic badhane ke luch naye tarike | Few New Tips and tricks for increases traffic on your website or blog

 

आज मैं आपको ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ाने (increasing traffic on your website or blog) के बारे में बताने जा रहा हूँ। जो कि किसी फ़ोरम या फ़ेसबुक जैसे सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म्स (social media platform) पर सबसे ज़्यादा पूछे जाने वाला प्रश्न (most asked question everywhere) है। इंटरनेट पर सर्च करने पर आपको ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ाने की टिप्स मिल जाएंगी, लेकिन लोग या फिर इनका प्रयोग नहीं करते हैं (but people not using the tips), या फिर किसी जादू के होने का इंतज़ार (waiting for some magic) है, जो रातो-रात उनकी साइट का ट्रैफ़िक बढ़ा दे।

आपको इस सच को स्वीकार करना पड़ेगा कि रातो-रात ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ाने का कोई तरीका नहीं (no traffic which increase traffic in night) है। ट्रैफ़िक बढ़ाने के लिए कड़ी मेहनत और रिसर्च (hard work and research) करनी पड़ती है। एक्सपर्ट सलाह को मानकर अच्छे रिज़ल्ट (better result) पाए जा सकते हैं।

ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ाने के 3 तरीके हैं | 3 tips and tricks to increase traffic on your blog or website

  1. रेफ़्रल ट्रैफ़िक – Referral Traffic- ईमेल मार्केटिंग e-mail marketing, सोशल मीडिया आदि से आने वाला ट्रैफ़िक
  2. सर्च ट्रैफ़िक – Search Traffic- गूगल, बिंग – bing- आदि जैसे सर्च इंजनों से मिलने वाला ट्रैफ़िक
  3. डायरेक्ट ट्रैफ़िक – Direct Traffic- जब कोई व्यक्ति वेब ब्राउज़र (web browser) में सीधे आपका ब्लॉग एड्रेस टाइप (type blog address) करके आपके ब्लॉग पर पहुंचता है

ऊपर बताए गए तरीकों में तीसरा वाला बहुत टाइम टेकिंग (time taking) है, इसके लिए ज़रूरी है कि आपके ब्लॉग को दुनिया भर (whole world) में लोग अधिक से जाने यानि आप अपने ब्लॉग की ब्रैडिंग अच्छी से अच्छी तरह से करें। लेकिन ध्यान रहे कि इस काम में समय लगता है और आपको धैर्य (keep patience while doing this) रखना पड़ेगा।

लेकिन पहला और दूसरा तरीका बहुत ही जल्दी रिज़ल्ट (quick result) देता है, इसलिए ज़्यादातर लोग इसी पर ध्यान (so people work on it) देते हैं।

सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन एसईओ | Search Engine optimization SEO

सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन (Search Engine Optimization) से आप ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ाया जाता है। दुनिया भर में गूगल सबसे चर्चित सर्च इंजन (famous in whole world) है। अधिकांश लोग इसी के लिए ऑप्टिमाइज़ेशन (doing for google only) करते हैं। दूसरे सर्च इंजनों के लिए एसईओ करना थोड़ा अलग होता है, क्योंकि उनकी सर्च एल्गोरिद्म अलग (different search algorithm) होती हैं।

गूगल सर्च का उद्देश्य की सर्च किए गए कीवर्ड के सम्बंधित सटीक से सटीक सर्च रिज़ल्ट (showing exact result) दिखाए जाएं। इसलिए गूगल सर्च ने कई तरह की एग्लोरिद्म विकसित (developed) की हैं जो विभिन्न ब्लॉग और साइटों के कंटेंट को क्राल (content crawling) करके उन्हें सर्च इंजन में रैंक करती हैं। किसी कीवर्ड के लिए आप जिन सर्च रिज़ल्ट को पहले पेज पर देखते हैं वे गूगल के अनुसार अच्छे होते हैं। अधिकतर लोग किसी कीवर्ड टारगेटिंग (keyword targeting) करके अपने ब्लॉग और ब्लॉग पोस्ट पहले पेज पर लाने का प्रयास (try to be on first page of google search) करते हैं। ऐसे लगभग 200 फ़ैक्टर हैं जो आपकी साइट की रैंक पर असर डालते हैं। हम इनमें से कुछ ज़रूरी फ़ैक्टर्स पर चर्चा करेंगे (We are discussing some important factor here)।

  1. बैकलिंक | Backlinks

बैकलिंक (Backlinks) आपकी साइट को लाभ भी पहुंचाता है और बड़ा नुकसान (it gives benefits and loss sometimes) भी कर सकता है। बैकलिंक एक प्रमुख फ़ैक्टर (main factor) है, जिसकी हेल्प से गूगल किसी वेब पेज की रैंक (google decide ranking) तय करता है। अच्छे वेब पेजों से मिलने वाले बैकलिंक फ़ायदेमंद होते हैं।

ऐसा माना जाता है कि अगर आप अच्छा कंटेंट पब्लिश (publishing the content) करते हैं तो लोग इस बारे में आपकी चर्चा करते हैं और आपके ब्लॉग या ब्लॉग पोस्ट को अपनी साइट पर लिंक करते हैं। जिससे उनकी साइट से आपकी साइट पर ट्रैफ़िक (traffic comes from backlinks) आने लगता है। जो साइट आपको लिंक कर रही है अगर उसकी रैंक अच्छी हो तो आपकी साइट की रैंक भी बढ़ती है।

नए ब्लॉगरों को अच्छी साइटों से बैकलिंक पाने में कड़ी मेहनत (hard work) करनी होती है, इसके लिए वे गेस्ट पोस्ट भी पब्लिश (publishing guests posts) कर सकते हैं।

ऑर्गैनिक लिंक बिल्डिंग (organic link building) के लिए आप इंफ़ोग्राफ़िक (infographic) , वीडियो, कंटेंट मार्केटिंग (content marketing), गेस्ट ब्लॉगिंग का सहारा ले सकते हैं।

ब्लैक हैट लिंक बिल्डिंग (Black Hat Link Building) में लोग फ़ाइवर, एसईओ क्लर्क (seo clerk), पेड पोस्टिंग, पेड गेस्ट पोस्टिंग, आर्टिकल सबमिशन (article submission), डायरेक्ट्री सबमिशन, साइट वाइड लिंक्स (sitewide links), ब्लॉग कमेंट का सहारा लेते हैं।

मेरी सलाह मानें, अपने ब्लॉग पोस्ट पर अधिक मेहनत (work hard on your content) करें और क्वालिटी कंटेंट पब्लिश करें (always publish quality content) जिससे ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ेगा और ब्लॉग लम्बी रेस का घोड़ा साबित होगा।

SEMrush

एसईओ हिंदी टिप्स | SEO tips in hindi

  1. सटीक पोस्ट टाइटल, परमालिंक और मेटा डिस्क्रिप्शन | Exact post, permalinks and meta description

बहुत से ब्लॉगर इन तीन चीज़ों पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं देते हैं, जिस वजह उनको मनचाहा रिज़ल्ट नहीं मिलता है। लेकिन अगर आप अपने ब्लॉग को अच्छी रैंक दिलाना चाहते हैं तो आपको इन तीनों को पूरी तरह से मेहनत (work hard on these things) करनी होगी। वर्डप्रेस यूज़र्स इसके लिए Yoast SEO plugin या All-in-One SEO plugin प्रयोग कर सकते हैं।

जिसकी हेल्प से आप आउटडेट पोस्ट (outdated posts) और ब्लॉग आर्काइव को No-Index टैग कर सकते हैं।

  1. कीवर्ड का सही इस्तेमाल | Perfect use of keyword

कीवर्ड वह शब्द होता है जिसे एक सामान्य यूज़र्स सर्च इंजन में टाइप करके सर्च (people search on google) करता है। जिस शब्द को अधिक से अधिक लोग सर्च करते हैं वो पापुलर कीवर्ड (popular keyword) बन जाता है। इसके लिए आप एडवर्ड कीवर्ड रिसर्च टूल (AdWord Keywords Research Tool) प्रयोग कर सकते हैं या फिर अपने अनुमान (or using your own ideas and experience) से काम कर सकते हैं।

  1. HTTPs का प्रयोग | Using HTTPs properly

जल्द ही गूगल ने एक बात स्पष्ट कर दी है (google clears one thing) कि SSL सर्टिफ़िकेट वाले ब्लॉग और साइट को अच्छी रैंक देने के लिए एक फ़ैक्टर के रूप में प्रयोग किया जा रहा है। इसलिए आप अपने ब्लॉग के लिए SSL सर्टिफ़िकेट ख़रीद सकते हैं। लेकिन ब्लॉगस्पॉट यूज़र्स कस्टम डोमेन (blogspot users cant use with custom domain) के साथ SSL सर्टिफ़िकेट का प्रयोग नहीं कर सकते हैं।

  1. एक्सेलेरेटेड मोबाइल पेज – एएमपी | Accelerated mobile page – AMP

Accelerated Mobile Page AMP – इस तकनीक की सहायता (with the help of this technique) से आपके ब्लॉग बहुत फ़ॉस्ट लोड (fast loading) होता है। हाल ही में जो लोग इस टेक्नोलॉजी का प्रयोग (using this technology) कर रहे हैं उनको बहुत ज़्यादा फ़ायदा हुआ है। गूगल ने ऐसे पेजों को मोबाइल सर्च इंजन में बढ़िया रैंक (gives better ranking in mobile search engine) दी है।

  1. मोबाइल फ़्रेंडली साइट | Mobile Friendly Site

अगर आप एक्सेलेरेटेड मोबाइल पेज टेक्नोलॉजी (accelerated mobile page technology) का प्रयोग नहीं कर रहे हैं तो आप एक रिस्पॉन्सिव और मोबाइल फ़्रेंडली साइट (mobile friendly site) डिज़ाइन करवा सकते हैं। ब्लॉगस्पॉट और वर्डप्रेस दोनों के लिए काफ़ी अच्छे रिस्पांसिव ब्लॉग टेम्पेलेट और थीम (responsive blog template or theme) मौजूद हैं।

सोशल मीडिया से ट्रैफ़िक बढ़ाना | Increasing traffic from social media

आज सोशल मीडिया पर होना बहुत ज़रूरी है (you must be on social media), पूरी दुनिया फ़ेसबुक जैसे सोशल मीडिया का प्रयोग कर रही है। जिससे आप ब्लॉग ट्रैफ़िक भी पा सकते हैं (you can increase traffic on your website or blog)।

सोशल मीडिया में आपको फ़ेसबुक, ट्विटर और यूटूब को पहले टारगेट (target them first)करना चाहिए।

फ़ेसबुक से ट्रैफ़िक बढ़ाना | Increasing traffic from facebook

फ़ेसबुक से ट्रैफ़िक बढ़ाना बहुत आसान है। हम सभी जानते हैं कि फ़ेसबुक को 1.2 बिलियन से ज़्यादा यूज़र्स प्रयोग (peoples using) कर रहे हैं। इसलिए यह ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ाने का एक अच्छा टूल साबित (good tool to increase traffic) हो सकता है।

फ़ेसबुक पर आप ब्लॉग और सम्बंधित प्रोडक्ट को प्रोमोट करने के लिए फ़ेसबुक पेज और फ़ेसबुक ग्रुप (make facebook page or join related facebook pages or groups)बना सकते हैं।

फ़ेसबुक पेज ब्लॉग के लिए अच्छा टूल होता है, जैसे जैसे आपके पेज के फ़ॉलोअर्स बढ़ते हैं (increase in followers) वैसे वैसे आपकी शेअर की जाने वाली पोस्ट की पहुंच (growth in reach) बढ़ती है। जिससे आपके ब्लॉग का ट्रैफ़िक बढ़ने (increase traffic on your website or blog) लगता है।

इसके अलावा आप दूसरे सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म्स (other social media platform) जैसे ट्विटर, रेडिट, क़ोरा की हेल्प से भी अच्छा ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ा सकते हैं।

जो फ़ैक्टर एक ब्लॉगर के लिए काम करते हैं ज़रूरी नहीं है कि वो दूसरे ब्लॉगर को भी लाभ पहुंचायें क्योंकि यह आपके कंटेंट और पाठकों की रुचि पर भी निर्भर (dpeends on your visitors interest and on your content) करता है।

ईमेल मार्केटिंग का प्रयोग | Usage of email marketing

ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ाने के लिए ईमेल मार्केटिंग का सहारा (you can take help of email marketing) भी लिया जा सकता है। इस काम के लिए गूगल फ़ीडबर्नर एक फ़्री टूल (google feedburner is a free tool) है लेकिन आप ऑबर, मेलचिम्प (mail chimp), गेटरिस्पॉन्स जैसे पेड ईमेल मार्केटिंग सर्विसेज को भी प्रयोग कर सकते हैं। जिसकी हेल्प से आप अपने सब्सक्राइबर को नई अपडेट उनके ईमेल (can send latest posts to your subscribers) पर भेज सकते हैं। यह भी ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ाने का पुराना और आज भी सबसे बढ़िया तरीका है (old and good technique), लेकिन इसके लिए भी आपको धीरज बांधना होगा। अचानक से लाखों सब्सक्राइबर्स का मिलना सपने जैसा है।

आप अपना ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ाने के लिए किस तरीके का प्रयोग कर रहे हैं, हमसे ज़रूर शेअर करें (must share your experience with us)।

SEMrush
x

Check Also

जानिये अपनी ब्लॉग या वेबसाइट की एलेक्सा रैंक को बेहतर बनाने के कुछ बहुत ही जबरदस्त टिप्स , Jaaniye apne blog ya website ki alexa rank ko behtar banaane ke kuch jabardast tips

जानिये अपनी ब्लॉग या वेबसाइट की एलेक्सा रैंक को बेहतर बनाने के कुछ बहुत ही जबरदस्त टिप्स | Jaaniye apne blog ya website ki alexa rank ko behtar banaane ke kuch jabardast tips

जानिये अपनी ब्लॉग या वेबसाइट की एलेक्सा रैंक को बेहतर बनाने के कुछ बहुत ही जबरदस्त ...